निरंतर खबरे :

पूर्व न्याय मंत्री व विधायक ने छात्राओं को किया सम्मानित| प्राथमिक विद्यालय अस्ती के बच्चों ने किया जागरूक| वीरागंना झलकारी बाई की मनाई 190वीं जयंती | सपा संरक्षक मुलायम सिंह का मनाया जन्मदिन, काटा केक| छोटे किसानों का धान केंद्र में नहीं खरीदा जा रहाः रामदत्त मिश्रा| आवारा पशुओं द्वारा फसलों का नुकसान किए जाने पर चर्चा | शाहाबाद ब्लाक प्रमुख के जेठ नलिन गुप्ता की कार टैक्ट्रर ट्राली में जा घुसी,बाल बाल बचे| मुलायम के जन्मदिन पर 2022 में सपा की सरकार बनाने का लिया संकल्प| राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने मिशन शक्ति अभियान के तहत मनाया रानी लक्ष्मी बाई का जन्म दिवस।| शाहबाद लेखपाल संघ का चुनाव निर्विरोध संपन्न, नरेन्द्र बने पुनःअध्यक्ष| बीआरसी पर रानी लक्ष्मी बाई को दीप प्रज्वलित कर याद किया गया| ग्राम पंचायत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आजिविका मिशन की हुई बैठक| शाहाबाद कोतवाली में तैनात कांस्टेबल अमित कुमार, राहुल कुमार को एसपी अनुराग वत्स ने किया सम्मानित| महिला सुरक्षा और यातायात नियमों के प्रति किया जागरूक| छात्राओं को बताये सुरक्षा के गुर| सपा नौजवान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का राष्ट्रीय सचिव ने किया स्वागत| वृद्ध जरूरतमंद विकलांगो को भोजन लईया गट्टा पट्टी मोमबत्ती मिठाई का वितरण | भ्रष्टाचार के विरुद्ध गुलाबी गैंग लोकतान्त्रिक नें किया प्रदर्शन| मीना मंच सुगमकर्ता कार्य योजना की बैठक| प्रशासन और संभ्रांत जनों के बीच संवाद जरूरी |

वास्तविक लोगों का किरदार निभाना पसंद है : सोनम कपूर



मुंबई - अभिनेत्री सोनम कपूर की आगामी फिल्म ‘द जोया फैक्टर’ है जिसमें वह लीड रोल में हैं। सोनम का कहना है कि बॉलीवुड की फिल्मों में ऐसे किरदार काफी सालों से दिखाए जा रहे हैं जो पूरी तरह से परफेक्ट होते हैं हालांकि उन्हें ऐसे किरदार ज्यादा वास्तविक लगते हैं जिनमें खामियां रहती हैं और जो पूरी तरह से परफेक्ट नहीं होते हैं। सोनम इससे पहले ‘आयशा’, ‘खूबसूरत’, ‘डॉली की डोली’ और ‘वीरे दी वेडिंग’ जैसी फिल्मों में काम कर चुकी हैं, इन सभी फिल्मों में सोनम ने एक ऐसी लड़की के किरदार को निभाया है जो अपनी जिंदगी में गलतियां करती है।

मुझे लगता है कि हमारी फिल्मों में काफी लंबे समय से युवा लड़के और लड़कियों का प्रतिनिधित्व सही से नहीं किया गया है। जब एक किरदार परफेक्ट नहीं होता है तो लोग इससे ज्यादा जुड़ाव महसूस करते हैं क्योंकि असली जिंदगी में हम परफेक्ट नहीं होते हैं। मैंने जितने भी किरदार निभाए हैं उनमें से ज्यादातर दोषपूर्ण है, लेकिन वे हमारा प्रतिनिधित्व करती हैं। मेरे लिए, ये असली किरदार हैं। फिल्मों में लीड कैरेक्टर या मुख्य भूमिका को परफेक्ट दिखाने की हमारी प्रवृत्ति होती है जैसे कि एक हीरो के पास सभी चीजों का समाधान होता है और विलेन बहुत काला होता है और लड़कियां हर एक चीज में निपुण होती हैं, यह वास्तविकता नहीं है। मुझे पर्दे पर ऐसे किरदार निभाना पसंद है जो वास्तविक इंसान का प्रतिनिधित्व करती है।

Comments