निरंतर खबरे :

कोर्ट ने तबलीगी जमात से जुड़े 122 मलेशियाई नागरिकों को दी जमानत| Jio ने पेश किए 49 और 69 रुपए वाले नए रिचार्ज प्लान्स, मिलेंगे ये फायदे|  यूपी में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क ना पहनने पर जुर्माना राशि बढ़ेगी |  खदानों में मजदूरी के लिए नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण| प्रदेश में खेती के बाद सबसे अधिक रोजगार बुनाई उद्योग से मिलता| अभी नहीं आया कोरोना का पीक, मौत के आंकड़े पकड़ सकते हैं रफ्तार|  हमीरपुर में एसटीफ की बदमाशों के साथ मुठभेड़| दिवंगत पत्रकार तरुण सिसोदिया के परिवार को 2 लाख रु की आर्थिक मदद दी जाएगी: आदेश गुप्ता| कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष लल्लू फिर गिरफ्तार, राज्यपाल को सौंपने जा रहे थे ज्ञापन| PCS अधिकारी ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा-मुझे फंसाया गया, नहीं था कोई और रास्ता| अधिशासी अधिकारी ने फांसी लगाकर की खुदकुशी| किशोरी के साथ दरोगा'का अमर्यादित फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल, एसपी ने किया लाइन हाजिर| वीडियो चैट में गांगुली का बड़ा खुलासा- सचिन कभी नहीं करना चाहते थे पहली गेंद का सामना| भविष्य में विफलता के तौर पर होगी ‘कोविड-19, नोटबंदी और जीएसटी’ पर चर्चा : राहुल| संकट में तत्‍काल मदद को पहुंचेगी यह शेरनी दस्‍ता| गांव की सड़कें तालाब में तब्दील, ग्रामीण कीचड़ में चलने को मजबूर| डिप्टी कलेक्टर राजीव उपाध्याय ने शहरी क्षेत्रों में जाकर कोविड-19 का पालन न करने वालों को दी सख्त चेतावनी।| उत्तर प्रदेश : शराब बिक्री में कमी से राजस्व को झटका| महाराष्ट्र में दूसरे प्रांत के कामगारों के लिए बढ़ी परेशानी|  हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर अब ढाई लाख का इनाम|

जूही चावला ने दिया भूमिहीन किसानों को अपने फॉर्महाउस में खेती का न्योता



मुंबई - अभिनेत्री व पर्यावरणविद जूही चावला कोरोनावायरस महामारी के चलते जारी लॉकडाउन में किसानों की मदद के लिए आगे आईं हैं। मुंबई से कुछ दूरी पर उनकी एक कृषि भूमि है, जहां विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा जैविक खेती का अभ्यास किया जाता है। जूही ने अब इस मौसम में धान की खेती करने के लिए इसे भूमिहीन किसानों के लिए खोल दिया है। अभिनेत्री ने कहा, “चूंकि हम अभी लॉकडाउन में हैं, ऐसे में मैंने भूमिहीन किसानों को खेती करने के लिए अपनी जमीन देने का फैसला लिया है। वे यहां इस मौसम में धान की खेती कर सकते हैं और बदले में उत्पाद का एक छोटा सा हिस्सा अपने लिए रख सकते हैं।”
उन्होंने आगे कहा, “यह कोई नई बात नहीं है। पुराने जमाने में लोग इसी तरह से खेती करते थे। यह एक अच्छी बात है। हमारे किसानों को मिट्टी, हवा, जमीन के बारे में शहर में रहने वाले लोगों की तुलना में कहीं ज्यादा पता है।” जूही ने अपने लोगों से धान की इस खेती पर नजर रखने को कहा है, ताकि इन्हें उगाने के लिए केवल जैविक पद्धतियों का ही उपयोग किया जाए और किसी भी तरह का कोई भी रसायन फॉर्म में न घुसने पाए। उन्होंने कहा, “यह हम सभी के लिए बेहतर है। हमारे लिए भी और हमारे किसानों के लिए भी। हम कठिन नहीं बल्कि स्मार्ट तरीके से काम कर रहे हैं। इस लॉकडाउन ने मेरे दिमाग में कुछ अच्छे ख्यालात डाले।”

Comments