निरंतर खबरे :

योगी-मोदी शुक्रवार को यूपी के एक करोड़ लोगों को देंगे रोजगार| कोरोना संक्रमण पहुंचा 5 लाख के करीब, दिल्ली ने मुंबई को पीछे छोड़ा| कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण की हुई घोषणा| लखनऊ:बैंक ऑफ बड़ौदा का जनरल मैनेजर कोरोना संक्रमित, बैंक अगले 24 घंटो के लिए बंद| 50 हजार करोड़ रुपये के गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत| T20 विश्व कप को लेकर CA का बड़ा बयान, कहा- फैंस को स्टेडियम में आने की अनुमति दी जाएगी| भारत-चीन विवाद पर राहुल गांधी ने पीएम पर फिर साधा निशाना, बोले- नरेन्द्र मोदी वास्तव में ‘सरेंडर’ मोदी हैं| आतंकवादी हमले की संभावना को लेकर हाई अलर्ट पर दिल्ली पुलिस| चीन को मिला बॉर्डर पर गुस्ताखी का जवाब| चाइनीज प्रोडक्ट्स बायकॉट करने की मांग| धूम्रपान से गहरा नाता है अकेलेपन का, लॉकडाउन में बढ़ सकती है समस्या|  लालजी टंडन की हालत नाजुक | लॉकडाउन की अफवाहों को छोड़ अनलॉक के दूसरे चरण की तैयारी करें राज्य| प्रवासी मजदूरों के लिए मोदी सरकार ला रही है मेगा प्लान|  24 घंटे में देश में मिले कोरोना के 12881 केस, 334 मरीजों की मौत| भारत अस्थायी सदस्य बनने पर पीएम मोदी बोले भारी समर्थन के लिए आभारी| पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी को हुआ कोरोना वायरस| बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने किया सुसाइड आज मुंबई में होगा अंतिम संस्कार| नए नक्शे को लेकर भारत के खिलाफ अगले कदम को तैयार नेपाल| देश में एक दिन में कोरोना के रिकॉर्ड 11502 नए केस, संक्रमितों की संख्या 3.32 लाख से अधिक|

चीन को मिला बॉर्डर पर गुस्ताखी का जवाब



नई दिल्ली। बॉर्डर पर चीन की गुस्ताखी का सेना ने मुंहतोड़ जवाब तो दिया ही। अब आर्थिक मोर्चे पर भी चीन को उसकी हरकतों की सजा देने की शुरुआत हो गई है। भारत सरकार ने सरकारी टेलिकॉम कंपनियों से किसी भी चीनी कंपनी के इक्विपमेंट्स का इस्तेमाल न करने को कहा है। भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनल) और महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) के टेंडर को कैंसिल कर दिया गया है। साथ ही, प्राइवेट मोबाइल फोन ऑपरेटर्स के लिए भी हुवाई और जेट जैसे चीनी ब्रैंड्स से दूर रहने का नियम बनाया जा सकता है। भारतीय टेलिकॉम इक्विपमेंट का एनुअल मार्केट 12,000 करोड़ रुपए है। इसमें से एक-चौथाई पर चीन का कब्जा है। बाकी में स्वीडन की एरिक्सन, फिनलैंड की नोकिया और साउथ कोरिया की सैमसंग शामिल है। दिल्ली और मेरठ के बीच रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम बन रहा है। इसके डिजाइन और एक अंडरग्राउंड हिस्से के कंस्ट्रक्शन का टेंडर एक चीनी कंपनी को मिलने की रिपोट्र्स थीं। मगर बुधवार को केंद्र सरकार ने कहा कि कॉन्ट्रैक्ट देने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है। विपक्षी दलों ने चीनी कंपनी को ठेका देने का विरोध किया है। ऐसे में यह कॉन्ट्रैक्ट भी चीनी कंपनी के हाथ से जाने की संभावना है।

Comments