निरंतर खबरे :

योगी-मोदी शुक्रवार को यूपी के एक करोड़ लोगों को देंगे रोजगार| कोरोना संक्रमण पहुंचा 5 लाख के करीब, दिल्ली ने मुंबई को पीछे छोड़ा| कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण की हुई घोषणा| लखनऊ:बैंक ऑफ बड़ौदा का जनरल मैनेजर कोरोना संक्रमित, बैंक अगले 24 घंटो के लिए बंद| 50 हजार करोड़ रुपये के गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत| T20 विश्व कप को लेकर CA का बड़ा बयान, कहा- फैंस को स्टेडियम में आने की अनुमति दी जाएगी| भारत-चीन विवाद पर राहुल गांधी ने पीएम पर फिर साधा निशाना, बोले- नरेन्द्र मोदी वास्तव में ‘सरेंडर’ मोदी हैं| आतंकवादी हमले की संभावना को लेकर हाई अलर्ट पर दिल्ली पुलिस| चीन को मिला बॉर्डर पर गुस्ताखी का जवाब| चाइनीज प्रोडक्ट्स बायकॉट करने की मांग| धूम्रपान से गहरा नाता है अकेलेपन का, लॉकडाउन में बढ़ सकती है समस्या|  लालजी टंडन की हालत नाजुक | लॉकडाउन की अफवाहों को छोड़ अनलॉक के दूसरे चरण की तैयारी करें राज्य| प्रवासी मजदूरों के लिए मोदी सरकार ला रही है मेगा प्लान|  24 घंटे में देश में मिले कोरोना के 12881 केस, 334 मरीजों की मौत| भारत अस्थायी सदस्य बनने पर पीएम मोदी बोले भारी समर्थन के लिए आभारी| पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी को हुआ कोरोना वायरस| बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने किया सुसाइड आज मुंबई में होगा अंतिम संस्कार| नए नक्शे को लेकर भारत के खिलाफ अगले कदम को तैयार नेपाल| देश में एक दिन में कोरोना के रिकॉर्ड 11502 नए केस, संक्रमितों की संख्या 3.32 लाख से अधिक|

बसपा के निशाने पर समाजवादी पार्टी का बड़ा वोट बैंक, मायावती ने बदली प्रदेश की कमान



लखनऊ । उत्तर प्रदेश में लगातार मजबूत होती भाजपा से टक्कर लेने की कोशिश में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी (सपा) पिछड़ते नजर आ रहे हैं, तो दूसरी ओर बसपा सुप्रीमो मायावती सूबे की सियासी नब्ज टटोलने की कोशिश कर रही हैं। सूबे की सियासी नब्ज़ को पकड़ते हुए लगातार पार्टी में फेरबदल कर रही हैं। मायावती ने अब अपनी निगाहें समाजवादी पार्टी के कोर वोटर कहे जाने वाले यादवों की तरफ मोड़ दी है। साथ ही मुसलमान और ब्राह्मणों को भी साधने में जुटी हुई हैं। बसपा ने बुधवार को यूपी में संगठन में बड़ा फेरबदल करते हुए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुस्लिम चेहरे मुनकाद अली को प्रदेश की कमान सौंपी है। 
जबकि, जौनपुर के श्याम सिंह यादव को लोकसभा में पार्टी का नेता घोषित किया गया है। संदेश साफ है कि मायावती यादवों और मुस्लिम मतदाताओं के बीच अपनी पैठ बनाने के प्रयास कर रही हैं। मुनकाद और श्याम सिंह यादव को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंप कर उन्होंने यह संदेश देने की कोशिश की है कि बसपा में यादवों और मुस्लिमो को खास तवज्जो दी जाएगी। 
आपको याद होगा कि लोकसभा चुनाव नतीजे आने के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने सपा से रिश्ता तोड़ते ही आरोप लगाया था कि अखिलेश यादव की यादव मतदाताओं पर पकड़ कमजोर हो गई है। उनका यह बयान उनकी भावी रणनीति की ओर साफ इशारा था। लोकसभा चुनाव के नतीजों से स्पष्ट हो गया था कि अब अपने कोर वोटर्स के दम पर कोई भी क्षेत्रीय दल अपना अस्तित्व नहीं बनाए रख सकता। अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए पार्टियों को अन्य क्षेत्रीय दलों के कोर वोटरों को अपनी ओर आकर्षित करना होगा। सभी जातियों और वर्गों के समर्थन के बिना भाजपा के मुकाबले में नहीं खड़ा हुआ जा सकता। यही वजह है कि लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही मायावती 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई हैं। 
2019 के लोकसभा चुनाव में यह बात सामने आई भी कि भाजपा ने सपा के मूल वोटबैंक में सेंधमारी की है। हालांकि यादव मतदाताओं का बड़ा हिस्सा आज भी सपा के साथ ही खड़ा है। लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद अखिलेश जिस तरह से निष्क्रिय हुए हैं, उससे यादव मतदाताओं में हताशा फैल गई है। इसी हताशा में मायावती अब अपने लिए संभावनाएं खोज रही हैं।
संसद में जम्मू-कश्मीर से जुड़े अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर बसपा ने जिस तरह से केंद्र सरकार का समर्थन किया, उससे भी साफ हो गया कि मायावती ने अब अपना अंदाज बदल दिया है। हालांकि, यूपी में मुस्लिमों को साधने में जुटी बसपा को इस बात की भी आशंका है कि अनुच्छेद 370 खत्म करने का समर्थन करके उसे नुकसान भी उठाना पड़ सकता है। 
इसी नुकसान की भरपाई के लिए ही मायावती ने ताजा सांगठनिक बदलाव में मुनकाद अली को प्रदेश अध्यक्ष बनाया है। इसके साथ ही मायावती ने उत्तर प्रदेश की राजनीति में ब्राह्मणों के प्रभाव को भांपते हुए उन्हें भी लुभाने की कोशिश की है। राज्यसभा में सतीश चंद्र मिश्रा बसपा के ब्राह्मण चेहरा हैं। इसके साथ ही लोकसभा में रितेश पांडेय को उप-नेता बनाकर उन्होंने साफ कर दिया है कि ब्राह्मण उनकी रणनीति का अहम हिस्सा हैं। 

Comments