निरंतर खबरे :

पूर्व न्याय मंत्री व विधायक ने छात्राओं को किया सम्मानित| प्राथमिक विद्यालय अस्ती के बच्चों ने किया जागरूक| वीरागंना झलकारी बाई की मनाई 190वीं जयंती | सपा संरक्षक मुलायम सिंह का मनाया जन्मदिन, काटा केक| छोटे किसानों का धान केंद्र में नहीं खरीदा जा रहाः रामदत्त मिश्रा| आवारा पशुओं द्वारा फसलों का नुकसान किए जाने पर चर्चा | शाहाबाद ब्लाक प्रमुख के जेठ नलिन गुप्ता की कार टैक्ट्रर ट्राली में जा घुसी,बाल बाल बचे| मुलायम के जन्मदिन पर 2022 में सपा की सरकार बनाने का लिया संकल्प| राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने मिशन शक्ति अभियान के तहत मनाया रानी लक्ष्मी बाई का जन्म दिवस।| शाहबाद लेखपाल संघ का चुनाव निर्विरोध संपन्न, नरेन्द्र बने पुनःअध्यक्ष| बीआरसी पर रानी लक्ष्मी बाई को दीप प्रज्वलित कर याद किया गया| ग्राम पंचायत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आजिविका मिशन की हुई बैठक| शाहाबाद कोतवाली में तैनात कांस्टेबल अमित कुमार, राहुल कुमार को एसपी अनुराग वत्स ने किया सम्मानित| महिला सुरक्षा और यातायात नियमों के प्रति किया जागरूक| छात्राओं को बताये सुरक्षा के गुर| सपा नौजवान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का राष्ट्रीय सचिव ने किया स्वागत| वृद्ध जरूरतमंद विकलांगो को भोजन लईया गट्टा पट्टी मोमबत्ती मिठाई का वितरण | भ्रष्टाचार के विरुद्ध गुलाबी गैंग लोकतान्त्रिक नें किया प्रदर्शन| मीना मंच सुगमकर्ता कार्य योजना की बैठक| प्रशासन और संभ्रांत जनों के बीच संवाद जरूरी |

एडमिशन के समय माता-पिता का एक साथ होना अनिवार्य नहीं : हाईकोर्ट




नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के उस निर्देश को खारिज कर दिया है, जिसमें यह कहा गया था ‎कि एडमिशन के समय बच्चे के मां-बाप का अनिवार्य रूप से शामिल होना जरूरी है।
सीबीएसई के इस सर्कुलर के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी, जिसमें यह कहा गया था कि हर समय मां-बाप का एक ही स्थान पर होना संभव नहीं होता है। याचिकाकर्ता ने कहा मेडिकल इमरजेंसी और नौकरी के कारण दूसरे स्थान पर मुक्त होने के कारण इस निर्देश का पालन करना माता-पिता के लिए संभव ही नहीं है। याचिका की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति डीएन पटेल और न्यायमूर्ति हरिशंकर ने मामले की सुनवाई की। सीबीएसई के वकील ने हाई कोर्ट में कहा कि याचिकाकर्ता ने सर्कुलर की गलत व्याख्या की है। इसमें माता या पिता किसी एक के होने पर भी एडमिशन की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी, लेकिन उनको कारण बताने होंगे। इसके बाद हाईकोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया।

Comments