निरंतर खबरे :

पूर्व न्याय मंत्री व विधायक ने छात्राओं को किया सम्मानित| प्राथमिक विद्यालय अस्ती के बच्चों ने किया जागरूक| वीरागंना झलकारी बाई की मनाई 190वीं जयंती | सपा संरक्षक मुलायम सिंह का मनाया जन्मदिन, काटा केक| छोटे किसानों का धान केंद्र में नहीं खरीदा जा रहाः रामदत्त मिश्रा| आवारा पशुओं द्वारा फसलों का नुकसान किए जाने पर चर्चा | शाहाबाद ब्लाक प्रमुख के जेठ नलिन गुप्ता की कार टैक्ट्रर ट्राली में जा घुसी,बाल बाल बचे| मुलायम के जन्मदिन पर 2022 में सपा की सरकार बनाने का लिया संकल्प| राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने मिशन शक्ति अभियान के तहत मनाया रानी लक्ष्मी बाई का जन्म दिवस।| शाहबाद लेखपाल संघ का चुनाव निर्विरोध संपन्न, नरेन्द्र बने पुनःअध्यक्ष| बीआरसी पर रानी लक्ष्मी बाई को दीप प्रज्वलित कर याद किया गया| ग्राम पंचायत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आजिविका मिशन की हुई बैठक| शाहाबाद कोतवाली में तैनात कांस्टेबल अमित कुमार, राहुल कुमार को एसपी अनुराग वत्स ने किया सम्मानित| महिला सुरक्षा और यातायात नियमों के प्रति किया जागरूक| छात्राओं को बताये सुरक्षा के गुर| सपा नौजवान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का राष्ट्रीय सचिव ने किया स्वागत| वृद्ध जरूरतमंद विकलांगो को भोजन लईया गट्टा पट्टी मोमबत्ती मिठाई का वितरण | भ्रष्टाचार के विरुद्ध गुलाबी गैंग लोकतान्त्रिक नें किया प्रदर्शन| मीना मंच सुगमकर्ता कार्य योजना की बैठक| प्रशासन और संभ्रांत जनों के बीच संवाद जरूरी |

धूम्रपान से गहरा नाता है अकेलेपन का, लॉकडाउन में बढ़ सकती है समस्या




 कोरोना वायरस के खिलाफ जंग चल रही है। कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। कई देश इसके साथ जूझने की आदत डाल रहे हैं। लेकिन इस लॉकडाउन ने लोगों को कई तरह की मनोवैज्ञानिक मुसीबतों में भी डाला है जिसमें अकेलापन खास है। एक अध्ययन में पाया गया है कि अकेलेपन का (स्मोकिंग) से संबंध है। एक अध्ययन में इस बात के प्रमाण पाए हैं कि लंबे समय तक अकेला रहने और धूम्रपान का गहरा संबंध है। अध्ययन में पाया गया कि अकेलेपन से धूम्रपान के बढ़ने की संभावना होती है।अकेलेपन और धूम्रपान के बीच के संबंध की वजहों में सिगरेट का सूकून का स्रोत माना जाना या बैचेनी को खत्म करने वाला माना शामिल है। इसके अलावा धूम्रपान से लोगों का अकेलापन भी बढ़ता है। क्योंकि इससे निकोटिन दिमाग में डोपामाइन हारमोन के काम में दखल देता है।
अध्ययन में बताया गया कि अकेले रहने में धूम्रपान के शुरुआत होने की ज्यादा संभावना होती है। साथ ही एक दिन में ज्यादा सिगरेट पीना भी बढ़ जाता है जबकि वहीं धूम्रपान छूटने की सफलता की संभावना भी कम हो जाती है।शोधकर्ता ने बयान में कहा, यदि अकेले लोगों के धूम्रपान शुरू करने की संभावना ज्यादा होती है और उनके लिए इस छोड़ना मुश्किल होता है,तब उन्हें धूम्रपान के ज्यादा नुकसान झेलने पड़ते हैं। धूम्रपान की वजह से लोग समय से जल्दी मर रहे हैं जिसे रोका जा सकता है और इनकी संख्या उन लोगों से 30 गुना ज्यादा है जो कैंसर हृदय और श्वास की बीमारियों से मर रहे हैं। शोध इस बात को रेखांकित करता है कि अकेलापन से पीड़ित घूम्रपान करने वालों को सहायता की जरूरत है जिससे वे न केवल अपना स्वास्थ्य सुधार सकें बल्कि अपना अकेलापन भी दूर कर सकें। शोधकर्ताओं का मानना है कि अध्ययन का फायदा उन लोगों को होगा जो लोगों की धूम्रपान की आदत छुड़ाने में लगे हुए हैं। कोरोना में सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के कारण लोगों में अकेलापन तेजी से बढ़ा है। यह अध्ययन यह भी दर्शाता है कि लोगों का अकेलापन दूर कर एक दूसरे से बात करते रहना कितना जरूरी हो गया है।

Comments