निरंतर खबरे :

पूर्व न्याय मंत्री व विधायक ने छात्राओं को किया सम्मानित| प्राथमिक विद्यालय अस्ती के बच्चों ने किया जागरूक| वीरागंना झलकारी बाई की मनाई 190वीं जयंती | सपा संरक्षक मुलायम सिंह का मनाया जन्मदिन, काटा केक| छोटे किसानों का धान केंद्र में नहीं खरीदा जा रहाः रामदत्त मिश्रा| आवारा पशुओं द्वारा फसलों का नुकसान किए जाने पर चर्चा | शाहाबाद ब्लाक प्रमुख के जेठ नलिन गुप्ता की कार टैक्ट्रर ट्राली में जा घुसी,बाल बाल बचे| मुलायम के जन्मदिन पर 2022 में सपा की सरकार बनाने का लिया संकल्प| राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने मिशन शक्ति अभियान के तहत मनाया रानी लक्ष्मी बाई का जन्म दिवस।| शाहबाद लेखपाल संघ का चुनाव निर्विरोध संपन्न, नरेन्द्र बने पुनःअध्यक्ष| बीआरसी पर रानी लक्ष्मी बाई को दीप प्रज्वलित कर याद किया गया| ग्राम पंचायत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आजिविका मिशन की हुई बैठक| शाहाबाद कोतवाली में तैनात कांस्टेबल अमित कुमार, राहुल कुमार को एसपी अनुराग वत्स ने किया सम्मानित| महिला सुरक्षा और यातायात नियमों के प्रति किया जागरूक| छात्राओं को बताये सुरक्षा के गुर| सपा नौजवान सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का राष्ट्रीय सचिव ने किया स्वागत| वृद्ध जरूरतमंद विकलांगो को भोजन लईया गट्टा पट्टी मोमबत्ती मिठाई का वितरण | भ्रष्टाचार के विरुद्ध गुलाबी गैंग लोकतान्त्रिक नें किया प्रदर्शन| मीना मंच सुगमकर्ता कार्य योजना की बैठक| प्रशासन और संभ्रांत जनों के बीच संवाद जरूरी |

वीडियो चैट में गांगुली का बड़ा खुलासा- सचिन कभी नहीं करना चाहते थे पहली गेंद का सामना



कोलकाता। पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली की जोड़ी सबसे सफल ओपनिंग साझेदारी जोड़ी रही है। लेकिन ऐसी अफवाहें प्रचलित हैं कि जब भी ये दोनों ओपनिंग करने उतरते थे तो सचिन हमेशा से चाहते थे कि गांगुली ही पहली गेंद का सामना करें। इस बात में कितनी सच्चाई है या ये एक मिथ्या है अब इस बारे में गांगुली ने खुलासा किया है।

मयंक अग्रवाल के साथ वीडियो चैट 'ओपन नेट्स विद मयंक' में जब खिलाड़ी ने पूछा कि क्या क्या सचिन पाजी ने आपको एकदिवसीय मैचों में बल्लेबाजी के लिए स्ट्राइक लेने के लिए मजबूर किया करते थे? इस पर गांगुली ने कहा कि हमेशा, उन्होंने ऐसा किया। गांगुली ने कहा कि मैं उनसे कहता था तुम भी कभी पहली गेंद का सामना कर लिया करो। मैं हमेशा पहली गेंद का सामना करता हूं। गांगुली ने कहा कि ऐसे में उसके पास इसके दो जवाब हुआ करते थे। एक उनका मानना था कि यदि उनका फॉर्म अच्छा है तो उन्हें नॉन-स्ट्राइकर एंड पर बने रहना चाहिए। दूसरा, जब उसका फॉर्म अच्छा नहीं था, तो वह कहता था कि 'मुझे नॉन-स्ट्राइकर के अंत में रहना चाहिए, क्योंकि यह मुझ पर दबाव डालता है।

उनके पास अच्छे फॉर्म और खराब फॉर्म दोनों का जवाब था। गांगुली ने इस दौरान बताया कि किस तरह उन्होंने सचिन को पहले गेंद खेलने के लिए मजबूर कर दिया था। उन्होंने कहा कि आप उसके (सचिन) करीब से जाओ और नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े हो जाओ। इसके बाद वो टीवी पर होता था जिसके बाद उसपर पहली गेंद का सामना करने का दबाव होता था। उन्होंने कहा कि ऐसा एक-दो बार हुआ है। इसका वीडियो बीसीसीआई के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर भी डाला गया है। 

Comments